अपने साथी से धन और वित्त संबंधी मामलों पर कैसे चर्चा करें

Discuss Money and Finances with Your Partner

बहुत सारे मुद्दे, वित्तीय मुद्दे मेरा मतलब जो मेरे और मेरी गर्लफ्रेंड के बीच रोज आते हैं। वो परेशान हो जाती है जब मैं उससे कहता हूँ कि तुमने पूरे महीने का खर्चा एक बार में ही कर दिया और मैं इस महीने और पैसे नही दे पाऊंगा। उफ़्फ़….मैं अपनी गर्लफ्रेंड को पैसो के बारे में कुछ भी कहने से बचता रहा हूँ।

अब वो समय आ गया था जब हा दोनों को बैठकर अपने वित्तीय मुद्दों को हल करना था। ये समझते हुए कि हम दोनों ही इस बारे में बहुत संवेदनशील हैं, मुझे ही इस बात की शुरुआत करनी थी। एक दिन रविवार की दोपहर को पूरी तरह तैयार होकर मैंने बात शुरू की और कहा “तुम भविष्य की वित्तीय आवश्यकताओ की योजना कैसे बना रही हो” मुझे सीधे जवाब की उम्मीद बिलकुल नहीं थी और न ही मुझे गहरी ख़ामोशी की उम्मीद थी। मैंने उसे फिर टटोला और कहा “तुम क्या चाहती हो कार, घर या अभी और पढ़ना चाहती हो” उसने अपना मुँह खोला और बोली “मैंने घर खरीदने की योजना बनाई है”। ये तो कमाल हो गया, मैं भी यही चाहता था कि हमारा एक घर हो, आह!

मेरे चेहरे पर भी वही समानता वाला आश्चर्य आया “हमारा घर, कितना अच्छा लगता है सुनने में” मेरे चेहरे पर हल्की सी मुस्कान थी और मैं बुदबुदाया ” ओ बेन, क्या तुम निश्चित रूप से उसके साथ लंबे समय तक रहना चाहते हो” “अरे हाँ” मैं अपने आप से बोला। मैंने अपनी पीठ थपथपाई और कहा “बड़ी चीज़ें कितने अच्छे से हो रही हैं”।

आगे मुझे उसे ये बताना था कि मैंने बहुत ज्यादा पैसा नहीं बचाया है। मैं अपने पिछले रिश्तों के बाते में ‘पैंडोरा बॉक्स’ नही खोलना चाहता था जहां मैंने पहले ज्यादा खर्च किया था। मैंने उससे कहा “मैंने बहुत ज्यादा तो नहीं बचाया शेरयल पर हम ये शुरू करेंगे”। ये सुनकर वो बिस्तर से उछाल कर बोली “तुम्हे काम करते हुए 8 साल हो गए हैं और तुमने ज्यादा नहीं बचाया। तुम ये सोच रहे हो कि मैं तुम्हारे लिए इसे खरीदूं”।

ये बातचीत टकराव भरी थी और मैंने नहीं सोचा था कि उसके टकराहट भरे व्यवहार के बाद बात को जारी रखना जरूरी था। पर मैं इस बातचीत को बन्द करने नहीं जा रहा था, मैं जल्दी ही इस बात को दोबारा शुरू करूंगा।


This post is also available in: English

0 Comments

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

© 2015-2016 An initiative by Web Empire

Log in with your credentials

Forgot your details?