प्यार क्या है? एक किशोरी की डायरी से

What is Love? From a Teenager’s Diary

एक युवती होने के नाते, नए विचार, नई भावनाएं आपको नए जीवन के बारे में अनिश्चित बनती हैं। आपको बहुत आनंद आता है जब आप अपने रास्तों पर खुद चल पड़ती हैं। यद्यपि ये सबसे ज्यादा प्यारे व्यक्ति की ओर से नहीं हो सकता। इन कुछ सालों में आपके जीवन को एक नया अर्थ मिलता है जो आपको इन जटिल संबंधो जैसे आदर्श मित्रता और प्यार के बारे में बताता है। हाँ प्यार। एक किशोरी के लिए प्यार बहुत मायने रखता है। ये वो चीज़ है जो उसे पागल(अच्छे रूप में) कर सकती है और उसे जोशीला बनाये रखती है। पर क्या आपने कभी सोचा है कि क्या उन्हें पता है कि वास्तव में प्यार क्या होता है। इंटरनेट पर बहुत से जनमत यह जानने की कोशिश करते हैं कि क्या आज की किशोरी प्यार के बारे मे जानती है? ज्यादातर युवतियां इसे गूगल पर सर्च करके ये बताती है कि यह मोह की एक ताकतवर भावना है। कुछ लोग कहते हैं कि ये एक युवती के शरीर में होने वाले जीन परिवर्तन के कारण होता है जिससे वो एक सुन्दर चेहरे, एक प्रसिद्ध व्यक्ति या अपने किसी अप्रत्याशित मित्र की ओर आकर्षित होती हैं। और ये बताती हैं कि प्यार के बारे में उनके क्या विचार हैं और उनके ताजा अनुभव क्या हैं। मुझे विश्वास है कि उनमे ये बातें देखने को मिलेंगी-

“मुझे कॉलेज के सबसे प्यारे लड़के ने आँख मारी है”, “जब मैं उसकी तरफ नहीं देखती,वो मेरी तरफ एक सेकंड के लिए ध्यान देता है” । किशोरियां उनके प्रति होने वाली बहुत छोटी छोटी बातों पर ध्यान देती हैं खासकर यदि उन्हें उन लोगो की तरफ से इशारा मिलता है,जैसे बॉडी लैंग्वेज या उनके प्रति झुकाव, जिनकी तरफ वो आकर्षित रहती हैं। यह कहा जाता है कि जब कोई आदमी किसी के प्रति आकर्षित होता है तो उसे कुछ भी अच्छा नहीं लगता और उसकी इस प्रेमसक्ति का असर उसके चेहरे पर बहुत दिनों तक दिखाई पड़ता है, चाहे वो कोई नया चुटुकला हो या कुछ और…..

“मैंने उसे अपने दोस्तों के बीच, सबकी उपेक्षा करते हुए मेरी तरफ ध्यान देते हुए देखा है। ओह…ये कितना अच्छा है।” अब ये एक दिनचर्या बन जाती है जब आपके चाहने वाले  का कोई मित्र उसके बारे में कुछ नयी जानकारी देता है जिसका आपको पता नहीं है। वो छोटी घटनाएं जब आपको आपके चाहने वाले के बारे में इशारा किया जाता है। चाहने वाले की एक अलग कीमत होती है पर जब वो आपको वापस प्यार करता है तो वो आपका रखवाला बन जाता है…… यही वो छोटी चीज़ है जो किशोरी पाना चाहती है। किसी “ख़ास” की फ़ोटो पर कमेन्ट करना और सोशियल नेटवर्किंग साईट इसे और मजेदार बनाती हैं।

यद्यपि माता-पिता महसूस करते हैं कि किशोरियों को ये पता नहीं होता कि प्यार क्या है और हार्मोन परिवर्तन को इसका कारण मानते हैं। और किशोरियां ये मानती हैं और इसकी वकालत करती हैं कि प्यार को पाने का इससे अच्छा और कोई निश्चित फार्मूला हो नहीं हो सकता जिससे पहले ही प्रयास में सच्चा प्यार मिल जाए। हालाँकि हमें अपना पहला प्यार अच्छा लगता है, एक किशोरी के लिए उसका पहला और अंतिम प्यार सफल हो जाए तो अच्छा है। और यदि ऐसा नहीं होता तो उन्हें नहीं पता होता कि उन्हें अगली बार सच्चा प्यार कैसे मिलेगा।

Tags:

This post is also available in: English

0 Comments

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

© 2015-2016 An initiative by Web Empire

Log in with your credentials

Forgot your details?